इच्छा मृत्यु पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला।

Supreme Court's historic decision on wish death.

इच्छा मृत्यु

Supreme Court

इच्छा मृत्यु पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला:- आज दिनांक: 9 मार्च 2018 की भारत की सर्वोच्च न्यायालय [Supreme Court] ने इच्छा मृत्यु [Wish death] पर एक बड़ा ही ऐतिहासिक फैसला सुनाया। जिसमे यह निर्णय दिया की जिस प्रकार से एक इंसान को भारत के संविधान का अनुच्छेद-21 के अनुसार अपनी इच्छा नुसार सम्मान से जीने का हक है, उसी प्रकार से उसे अपने इच्छा से मरने का भी हक होना चाहिए। इसीको को आधार बनाकर सन्: 2005 में  एक NGO द्वारा याचिका दायर की गई थी, इस याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट के 5 जाजो की खंडपीठ ने इस पर चर्चा करके  उसमे कुछ Terms and Condition के साथ Passive Euthanasia इसे मंजूरी दे दी है|

और अगर आप इच्छा मृत्यु के बारे में नहीं जानते की इच्छा मृत्यु क्या होती है, तो आप दिनांक: 19 नवंबर 2010 में आई हृतिक रोशन की फिल्म “गुजारिश” देख लीजिए आप खुद ब खुद समझ जाएंगे कि इच्छा मृत्यु क्या होती है।

इच्छा मृत्यु का सबसे चर्चित केस अरुणा शानबाग का था, जो आपको याद ही होगा लेकिन उनकी इच्छा मृत्यु याचिका खारिज [ Petition dismissed ] कर दी गई थी। यह याचिका सन: 2011 में एक चर्चित पत्रकार पिंकी वीरानी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की थी, की अरूणा शानभाग पिछले 37 वर्षो से कोमा में एक ही बिस्तर पर है, अब वो फिर कोमा से उठ नहीं सकती तो उनको यूं तड़पने से अच्छा है, की उन्हे इच्छा मृत्यु दे दी जाय लेकिन उस समय उस याचिका को सर्वोच्च न्यायालय [Supreme Court] ने खारिज करके सुरक्षित रख  दिया गया था और दिनांक: 18 मई 2015 में अरुणा शानभाग की मुंबई स्थित “के.ई.एम. अस्पताल” में स्वाभाविक मृत्यु हो गई ।

यह भी पढ़े:- क्या आप इस सुंदर Window Xp की तस्वीर के बारे में सच्चाई जानते हैं?

यह भी पढ़े:- बालो को असमय झडने से बचाने के 6 घरेलू नुस्खे |

यह भी पढ़े:- YouTube पर पैसा कमाने के लिए कुछ भी।

यह भी पढ़े:- Using these home remedies,you can get back the whiteness of your teeth.

यह भी पढ़े:- सावधान पैसो की ज्यादा चिंता करने से आप अपना दिल को खतरे में डाल सकते हो |

इच्छा मृत्यु दो तरह से दी जाती है, एक तो होती है  Active euthanasia और दूसरी है Passive Euthanasia.

  • Active Euthanasia:- Active Euthanasia का मतलब है, की अगर कोई बिस्तर पर है और उसके ठीक होने की कोइ आशंका नहीं है तो उसे इंजेक्शन से जहर देखर इच्छा मृत्यु दे दी जाय।
  • Passive Euthanasia:- Passive Euthanasia का मतलब है, की अगर कोई व्यक्ति वेंटिलेटर यानी लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर है, और उसके ठीक होने की कोइ आशंका नहीं है, तो उसका लाइफ सपोर्ट सिस्टम हटा लिया जाय तो उसका ओक्सीजन बंद हो जाएगा और उस व्यक्ति की मृत्यु जाएगी। तो सर्वोच्च न्यायालय ने Active Euthanasia को मंजूरी न देकर Passive Euthanasia को मंजूरी दी है।

living will क्या है? [ What is This Living Will ]

Wish Death Living Will

Living Will का मतलब यह है, कि जैसे कोई व्यक्ति अपनी वसीयत बनाता है, की मेरे मरने के बाद मेरी जो भी धन संपत्ति है, वह किसे मिलनी चाहिए इसी प्रकार से आपको इसमें भी जब आप चल फिर रहे होते है, तभी आपको एक Living Will Magistrate के सामने दो गवाहों की मौजूदगी में बनवाकर साईन करनी पड़ेगी की अगर मुझे किसी भी प्रकार की कोई गंभीर बीमारी [serious illness] हो जाय और मेरी बचने की कोई भी उम्मीद न ही ऐसी स्थिति में मुझे जबरन वेंटिलेटर पर न रखा जाय। इस नियम का उल्लंघन ना हो इसलिए कोर्ट इस Living Will की गंभीरता से  तफ्तीश करेगी की कहीं ये व्यक्ति किसी के दबाव में तो नहीं आकर यह Living Will लिख रहा है। इसकी पुरी जांच पड़ताल के बाद ही उस इच्छा मृत्यु की Living Will को मंजूर किया जाएगा।

तो इस प्रकार से सर्वोच्च न्यायालय ने इच्छा मृत्यु के लिए “Passive Euthanasia” को मंजूरी दी। और इच्छा मृत्यु के इस नए प्रावधान का दुरुपयोग रोकने के लिए कुछ महत्वपूर्ण शर्तें [Terms and Condition] भी रखी हैं। ताकी कोई अपने निजी स्वार्थ के लिए इसका दुरुपयोग [Misuse] न कर सके।

अगर आपको यह आर्टीकल पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले क्यों की आप Knowledge जितना शेयर करोगे उतना  बढेगा|

Subscribe My Youtube Channel

Follow Me On Twitter

Follow Me On Linkedin

Join me on Google Plus

Like My Facebook Page

More from my site

About canihelpyouonline 162 Articles
www.canihelpyouonline.com Through this website we will give you information on Income Tax,Youtube,Mobile,Software,Computer,Tax Deduction at Source and Aliate Marketing and all new technology in Hindi.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*