2022 तक सभी के लिए आवास-प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY)

प्रधान मंत्री आवास योजना |

     वर्तमान संख्या के अनुमान के मुताबिक, शहरी क्षेत्रों में रहने वाले देश की आबादी, जो पिछले दशक में पहले से भी भारी वृद्धि देखी गई है, आने वाले वर्षों में असाधारण वृद्धि को देखने के लिए तैयार है। वर्ष 2050 तक, देश की शहरी आबादी 814 मिलियन से अधिक तक पहुंचने का अनुमान है। वर्तमान स्तर से लगभग 400 मिलियन लोग। ऐसी बड़ी आबादी के साथ, किफायती आवास, स्वच्छता और विकास प्रदान करना, और शहर के निवासियों के लिए एक सुरक्षित वातावरण द्वारा सामना की जाने वाली भारत की सबसे बड़ी चुनौतियां होगी।

     वर्तमान में, रियल एस्टेट डेवलपर्स के उन क्षेत्रों पर बहुत अधिक नियंत्रण है, जो विकसित किए जाएंगे। इसके अलावा, अचल संपत्ति की कीमतों ने पिछले कई सालों में आकाश को छुआ लिया  है, जिससे आम आदमी को खुद के घर का मालिक बनना लगभग असंभव सा हो गया है। इस मुद्दे को हल करने के लिए, कि हमारे प्रधान मंत्री मा. श्री. नरेंद्र मोदी जी ने वर्ष: 2022 तक सभी योजनाओं के लिए आवास की घोषणा की, जिसे प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY) के नाम से जाना जाता है। वर्ष 2015 में, यह योजना विज्ञान भवन, नई दिल्ली में 25 जून को लॉन्च की गई थी। इस योजना के अलावा, दो और योजना लॉन्च किए गए थे |

यह है वह दो योजनाएं :-

1) भारत के स्मार्ट शहरों के विकास के लिए |

2) कायाकल्प और शहरी परिवर्तन (एएमआरयूटी) के लिए अटल मिशन जो शहरी नवीनीकरण और प्रमुख शहरी शहरों में बुनियादी ढांचे के उन्नयन की अनुमति देता है |

     इन तीनों योजनाओं को देश भर में महापौरों, नगरपालिका आयुक्तों और राज्य सरकार के अधिकारियों की उपस्थिति में लॉन्च किया गया था। प्रक्षेपण में उन्होंने कहा की, “देश की 40% आबादी शहरों में रहती है, और यह सरकार की ज़िम्मेदारी बनती है, कि वह उन्हें सुविधाएं प्रदान करे ताकि उनके जीवन स्तर को उठाया जा सके। सभी योजनाओं के लिए आवास (PMAY) यह सुनिश्चित करेगा कि प्रत्येक शहरी गरीब स्वयं के घर का मालिक बन सके। AMRUT शहरों में बुनियादी ढांचे और स्वच्छता के लिए जिम्मेदार होगा। “

योजना का विवरण |

     प्रधान मंत्री आवास योजना की शर्तों के अनुसार, वर्ष: 2022 तक भारत सरकार लगभग दो करोड़ घरों का निर्माण करेगी। इस योजना के तहत प्रदान किए गए प्रत्येक घर में लगभग 1 लाख रुपये का केंद्रीय अनुदान 2.3 लाख रुपये तक जा सकता है। 6.5 प्रतिशत ब्याज दर सब्सिडी योजना (पिछली योजनाओं में ब्याज दर सब्सिडी लगभग 1 प्रतिशत थी) इस योजना के एक हिस्से के रूप में भी आएगी। इसका मतलब है, कि जो आवेदक कम आय वाले समूह से संबंधित हैं, जो आवास योजना का लाभ उठाने की योजना बना रहे हैं, वे 6.5% की सब्सिडी ब्याज दर के साथ आवास ऋण के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।

   आवास ऋण का कुल कार्यकाल 15 साल तक बढ़ सकता है और इस तरह की ऋण सब्सिडी द्वारा अर्जित लाभ प्रत्येक 1 से 2.3 लाख रुपये में जोड़ देगा। वर्तमान में आवास ऋण ब्याज दर लगभग 10.5% है। इस प्रकार, सब्सिडी आवेदकों को एक बड़ी राहत के रूप में कार्य करना चाहिए। साथ ही, यह स्पष्ट किया गया था कि ‘आवास के लिए आवास (PMAY) योजना राजीव आवास योजना जैसे आवास से संबंधित सभी मौजूदा सरकारी योजनाओं को प्रतिस्थापित करेगी| शुरुआती अनुमानों के अनुसार, वर्ष: 2022 तक सभी योजनाओं के लिए आवास अगले सात वर्षों के लिए केंद्र सरकार को 3 लाख करोड़ रुपये खर्च करना पडेगा ।

इस बारें में समाचार रिपोर्टों का कहना है ?

    समाचार रिपोर्टों का कहना है, कि लॉन्च की गई योजनाओं के लिए परिचालन दिशानिर्देश राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ वार्ता के लंबे सत्र के बाद बंद कर दिए गए हैं। पीएमए के अलावा, सरकार शहरी आवास विकास के लिए एक अन्य प्रोत्साहन और सब्सिडी के साथ आई है। इनमें से एक झोपड़ी क्षेत्रों में आवास परियोजनाओं के विकास के लिए राज्य सरकारों को प्रति लाभार्थी 1 लाख रूपए का अनुदान है। सस्ती किराए पर आवास, एक आईएनआर 6,000 करोड़ की पहल, जो ‘हाउसिंग फॉर ऑल’ योजना के पहले भाग में थी, एनडीए सरकार की प्रमुख योजना से नहीं थी। शहरी क्षेत्रों में झोपड़ियों के प्रसार को रोकने के लिए उपाय, बाद की तारीख में एक अलग योजना के रूप में जारी किया जा सकता है।

प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY) का कवरेज और अवधि |

पहला चरण- (अप्रैल 2015 – मार्च 2017): इस चरण में राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों से चुने गए 100 शहरों को शामिल किया जाएगा।

दूसरा चरण- (अप्रैल 2017 – मार्च 201 9): पीएमए के दूसरे चरण में अतिरिक्त 200 शहरों को शामिल किया जाएगा।

तिसरा चरण- (अप्रैल 201 9 – मार्च 2022): तीसरा और अंतिम चरण अन्य सभी शेष शहरों को कवर करेगा।

महिलाओं,एससी / एसटी के लिए लाभ के प्रकार |

     जबकि प्रधान मंत्री आवास योजना का लक्ष्य वर्ष: 2022 तक सभी के लिए किफायती आवास प्रदान करना है, और साथ में यह भी सुनिश्चित करने के लिए तैयार है, कि योजना के लाभ महिलाओं, अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों और समाज के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के समूहों के लिए हैं। एक अद्वितीय कदम में, सरकार का उद्देश्य देश में उपेक्षित समूहों के हितों की रक्षा करना है। ट्रांसजेंडर [तृतीय पंथी] और विधवाएं, निचले आय समूहों और शहरी गरीबों के सदस्य, और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को किफायती आवास योजना के लिए आवेदन करते समय दूसरों पर वरीयता दी जाएगी।

Read Also:- अपना आयकर रिफंड समय के पहले पाने के 6 जादुई मूलमंत्र |

     लोगों के इन समूहों के अलावा, समाज के सदस्य जो अक्सर बेघर, वरिष्ठ और अलग-अलग लोग पाए जाते हैं, उन्हें घरों के आवंटन में वरीयता भी मिल जाएगी। वे अपनी जरूरत और वरीयता के अनुसार एक ग्राउंड फ्लोर हाउस भी चुन सकते हैं। इसके अतिरिक्त, यह भी अनिवार्य है, कि इन योजनाओ के लाभों का लाभ उठाने के लिए पंजीकरण करते समय लाभार्थियों को अपनी मां या पत्नी का नाम जिक्र करना चाहिए। समाचार रिपोर्टों के मुताबिक, इस योजना के लॉन्च से पहले, इन विवरणों को आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्रालय के अधिकारी ने खुलासा किया था। यह योजना भारत में पहले से उपेक्षित उपरोक्त समूहों को प्रदान किए जाने वाले संरक्षण और लाभ के संदर्भ में एक अद्वितीय है।

स्मार्ट सिटीज और अमृत |

     स्मार्ट शहरों के लिए सरकार की योजना के अनुसार, देश भर के 100 स्मार्ट शहरों को अगले पांच वर्षों की अवधि में विकसित किया जाएगा। इस परियोजना में प्रमुख राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय हितधारकों को भी शामिल किया जाएगा, जिसका अनुमान लगभग 48,000 करोड़ रुपये है। देश के 500 से अधिक शहरों को शहरी नवीनीकरण और बुनियादी ढांचे के उन्नयन, विशेष रूप से जल निकासी और स्वच्छता सुविधाओं के लिए चुना गया है। प्रधानमंत्री जी ने कहा कि स्मार्ट शहरों का चयन सार्वजनिक मतदान द्वारा किया जाएगा। AMRUT के लिए 500 शहर वर्तमान में पहचान की प्रक्रिया में हैं।

Read Also:- भारतीय रेलवे की सबसे पुरानी पहली एयर कंडीशन ट्रेन |

     भारत सरकार ने अगले तीन वर्षों में इन तीन योजनाओं पर 4,00,000 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना बनाई है। इन योजनाओं को वित्तपोषित और सफलतापूर्वक चलाने के लिए, सरकार सार्वजनिक निजी साझेदारी मॉडल को देखेगी।

PMAY के लिए आवेदन कैसे करें ?

     प्रधान मंत्री ने इस योजना की घोषणा की है। तभी विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा मुख्य योजना के तहत कई अन्य आवास योजनाएं शुरू की जाएंगी। एक बार राज्य सरकारें योजनाएं लॉन्च करने के बाद, आवेदन पत्र वांछित आवेदकों को ऑनलाइन और ऑफ़लाइन दोनों ही उपलब्ध कराए जाएंगे। प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY) के बारे में अधिक जानकारी के लिए, कृपया लॉग इन करें: http://pmaymis.gov.in/

इस  योजना के लिए Selected शहरों की सूची निम्नलिखित है |

 

क्रं राज्यों के नाम शहरों के नाम
1 आंध्र प्रदेश अदोनी, अमरावती राजधानी शहर, अनंतपुर, भीमवारम, चिलकलुरुपेट, चिराला, चित्तूर, धर्मवर्म, एलुरु, गुडिवाड़ा, गुड़ूर, गुंटकल, गुंटूर, जीवीएमसी, हिंदुपुर, कदपा, कदीरी, काकीनाडा, कवली, कुरनूल, माचीलीपत्तनम, मदनपल्ले, मंगलागिरी, नंदियाल, नरसारापेट, नेल्लोर, ओंगोल, पलाकोल, प्रोड्डात्तूर, राजमुंदरी, रायचोटी, श्रीकुलुलम, श्रीकालहस्ती, तादपल्लीगुडेम, तादपत्री, तेनाली, तिरुपति, विजयवाड़ा, विजयनगरम, यममिग्नूर |
2 छत्तीसगढ़ अहिवा, अंबिकापुर, बाडे बहेली, बागबाहारा, बायकुनथपुर, बलोड, बलोदा बाजार, भटापारा, भिलाई छारोड़ा, भिलाई नगर, बीजापुर, बिलासपुर, बिरगांव, चंपा, चिर्मिरी, दंतेवाड़ा, धामत्तारी, दुर्ग, गोबरा नप्पारा, जगदलपुर, जशपुर नगर, कंकड़, कवर्धा , कोंडागांव, कोरबा, महासामुंड, मन-शिविर, मनेंद्रगढ़, मुंगेली, नैला-जनजगीर, नारायणपुर, पेन्द्र, रायगढ़, रायपुर, राजनांदगांव,सुकमा |
3 गुजरात अहमदाबाद, अमरेली, आनंद, अंकलेश्वर, भरूच, भावनगर, भुज, देसा, गांधीधाम, गांधीनगर, हिम्मतनगर, जेटपुर, कादी, कालोल, महेसन, मोरबी, नवसारी, पालनपुर, पाटन, राजकोट, सावरकुंडला, सिद्धपुर, सूरत, उना, उंजा, वडोदरा, वल्लभ विद्यानगर, वलसाड, वापी, विसनगर |
4 हरयाणा फरीदाबाद, गुड़गांव, हिसार, करनाल, पानीपत, रोहतक, सिरसा, सोनीपत, यमुनानगर |
5 हिमाचल प्रदेश बद्दी, बिलासपुर, चंबा, धर्मशाला, हमीरपुर, कुल्लू, मंडी, नहान, नालागढ़, परवानू, शिमला, सोलन, उना |
6 जम्मू-कश्मीर अनंतनाग, बडगाम, बारामुला, बशोहली, भद्रवा, बिजीबेरा, डोडा, गंदरबल, हैंडवाड़ा, जम्मू, कारगिल, कथुआ, किश्तवार, कुपवाड़ा, लेहलादख, पुलवामा, पंच, आरएस पोरा, राजौरी, रामबन, सांबा, शुपियान, सोपोर, श्रीनगर, उधमपुर |
7 झारखंड बोकारो स्टील सिटी, चास, चिरकुंडा, देवगढ़, धनबाद, दुमका, गिरिडीह, गुमला, हजारीबाग, जमशेदपुर, लोरादागा, मेदीनिनगर, फुसरो, रामगढ़ छावनी, रांची |
8 केरल आलप्पुषा, काल्पेटा, कन्नूर, कासरगोड, कोच्चि, कोल्लम, कोट्टायम, कोझिकोड, मलप्पुरम, पलक्कड़, पठानमथिट्टा, तिरुवनंतपुरम, थोडुपुझा, त्रिशूर |
9 मध्य प्रदेश अगर, अलीराजपुर, अनुपपुर, अशोकनगर, अष्ट, बालाघाट, बरवानी, बेरासिया, बेटुल, भिंड, भोपाल, बीना-इटावा, बुदनी, बुरहानपुर, चंदला, छतरपुर, छिंदवाड़ा, दबरा, दमोह, दतिया, देवास, धार, डिंडोरी, गंज बसौदा , गुना, ग्वालियर, हरदा, होशंगाबाद, इंदौर, इटारसी, जबलपुर, झाबुआ, खजुराहो, खांडवा, खरगोन, खुराई, माहर, मनावर, मंडला, मंदसौर, मोरेना, मुरवाड़ा (कटनी), नागदा, नरसिंहपुर, नसरुल्लागंज, नीमच, पन्ना, पाथरिया, पिथमपुर, रायसेन, राजगढ़, रामपुर बागेलन, रतलाम, रेती, रीवा, सागर, सरणी, सतना, सेहोर, सेंधवा, सेनी, शाहडोल, शाहगंज, शाजापुर, शेओपुर, शिवपुरी, सिधी, सिहोरा, सिंगराउली, सोनकच, टिकमगढ़, उज्जैन , उमरिया, विदिशा |
10 मणिपुर एंड्रॉइड, बिष्णूपुर, हीरोक, इम्फाल, जिरीबाम, काकिंग, काकिंग खुनौ, कुम्बी, क्वाक्टा, लैमलाई, लमसंग, लिलोंग (इम्फाल वेस्ट), लिलोंग (थौबल), मायांग इम्फाल, मोइरंग, मोरेह, नंबोल, निंगथौखोंग, ओनाम, समूरौ एनपी, सेक्माई बाज़ार, सिखोंग सेक्माई, सुग्नू, थोंगखोंग लक्ष्मी बाज़ार, थौबल, वांगजिंग, वांगोई, यायरीपोक |
11 नगालैंड चांगटोंग्या, चुमुकेदीमा, दीमापुर, किपशायर, कोहिमा, लोंगलेन्ग, मेडिज़िमा, मोोकोकचंग, सोम, नागिनिमोरा, पेरेन, पफुत्सेरो, फेक, त्समिनीउ, तुएंसांग, तुली, वोखा, जुनेबोटो |
12 ओडिशा आनंदपुर, अथगढ़, बलंगिर, बलेश्वर, बनापुर, बंकी, बरगढ़, बरिपदा, भद्रक, भवनपत्ना, भुवनेश्वर, बिरमित्रपुर, ब्रह्मपुर, बजरजनगर, बाईसानगर, चौधवार, कटक, देबागढ़, धेनकनाल, जगत्सिंहपुर, जजापुर, जयपुर, झारसुगुडा, कंटबानजी, खारीर, खोरधा, कोचिंडा, कोणार्क, कोरापुट, मलकांगिरी, नयागढ़, पारादीप, पुरी, रायरंगपुर, राजगांगपुर, राउरकेला, रायगडा, संबलपुर, सुंदरगढ़, तलचर, टिटलागढ़, उमरकोटे |
13 पश्चिम बंगाल अलीपुरद्वार, अराबाग, आसनसोल, अशोकनगर कल्याणगढ़, बदुरिया, बायायाबाती, बालूरघाट, बांकुरा, बंसबेरिया, बरनगर, बरसाट, बर्धमान, बराकपुर, बरूपुर, बशीरघाट, बेल्दंगा, बेरहमपुर, भद्रसर, भटपारा, बिधाननगर, बिरनगर, बिष्णूपुर, बोलपुर, बोंगाँव, बडगे बडगे, चकदाहा, चंपदानी, चंदनगर, चंद्रकोना, कोंटाई, कूपर का शिविर, दैनहाट, डालखोला, डंकुनी, दार्जिलिंग, धुलीयन, धुपगुड़ी, डायमंड हार्बर, दीनताता, दुबरराजपुर, दम डम, दुर्गापुर, एग्रा, अंग्रेजी बाज़ार, गंगारामपुर, गरुलिया, गेयसपुर, घाताल, गोबरदाग, गुस्कारा, हबरा, हलीदा, हल्दीबाड़ी, हलिसहर, हावड़ा, हुगली-चिनसराह, इस्लामपुर, जलपाईगुड़ी, जंगीपुर, जयनगर मज़िलपुर, झल्दा, झारग्राम, जयगंज-अजीमगंज, कालीगंज, कालीम्पोंग, कला, कल्याणी, कामढ़ती, कंचरापारा, कंडी , कटवा, खड़गपुर, खारार, खारदाह, कुच बिहार, कोलकाता, कोनगर, कृष्णनगर, क्षीपाई, कुर्सियांग, मध्यमग्राम, महेश्तला, मल, मथभंगा, मेदिनीपुर, मेक्लिगंज, मेमरी, मिरिक, मुर्शिदाबाद, नाबादवीप, नैहाटी, नलहाती, नई बराक केपीओआर, उत्तरी बैरकपुर, उत्तरी डमडम, पुरानी मालदा, पनहाती, पंसुरा, पुजली, पुरुलिया, रघुनाथपुर, रायगंज, राजपुर सोनारपुर, रामजीबनपुर, रामपुरहट, रानाघाट, ऋषि, सैंथिया, संतपुर, सेरामपुर, सिलीगुड़ी, सोनामुखी, सूरी, दक्षिण डमडुम, सूरी, ताहरपुर, ताकी, तमलुक, तारकेश्वर, तटागढ़, तुफानगंज, उलुबेरिया, उत्तरपाराकोत्रंग |
14 राजस्थान अजमेर, अलवर, बलोटा, बंसवाड़ा, बरान, बीवर, भरतपुर, भीलवाड़ा, भिवडी, बीकानेर, बुंदी, चक्षू, चित्तौड़गढ़, चुरु, धालपुर, फालना, गंगानगर, गंगापुर शहर, हनुमानगढ़, हिंडाउन, जयपुर, झलवार, झुनझुनुन, जोधपुर, किशनगढ़ , कोटा, मकराना, नागौर, नाथद्वारा, पाली, प्रतापगढ़, पुष्कर, राजसमंद, सरदारशाहर, सवाई माधोपुर, सीकर, सुजानगढ़, टोंक, उदयपुर, विजयनगर |
15 तेलंगाना अचम्पाट, आदिलाबाद, आर्मूर, भोंगिर, बोधन, गजवेल, जीएचएमसी, जांगन, करीमनगर, खम्मम, महाबूबबाद, महबूबनगर, मेडक, मेटपले, मिर्यालागुडा, नागकर्णूल, नलगोंडा, निर्मल, निजामाबाद, पलवांच, संगारेड्डी, सिद्धिपेट, सिरसिला, सूर्यपेट, विकाराबाद, वानापार्थी, वारंगल, ज़ाहिराबाद |

अगर आपको यह आर्टीकल पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले क्यों की आप Knowledge जितना शेयर करोगे उतना  बढेगा|

Subscribe My Youtube Channel

Follow Me On Twitter

Follow Me On Linkedin

Join me on Google Plus

Like My Facebook Page

 

 

About canihelpyouonline 163 Articles
www.canihelpyouonline.com Through this website we will give you information on Income Tax,Youtube,Mobile,Software,Computer,Tax Deduction at Source and Aliate Marketing and all new technology in Hindi.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*