ब्लॉगिंग हिन्दी vs हिंगलिश |

Hindi Vs Hinglish bloggers

ब्लॉगिंग हिन्दी vs इंग्लिश:- हर एक नए ब्लॉगर के मन में एक ही शंका रहती है, की हम अपना ब्लॉग हिंदी में शुरू करे या अंग्रेजी में, तो इस विषय में आपको एक बात साफ कर दूं, की अपनी-अपनी जगह दोनों भाषाओं का अपना अपना महत्व है।

जैसे:- मोबाईल रिचार्ज में २ प्लान होते है, पहला लिमिटेड और दूसरा अनलिमिटेड तो यहां लिमिटेड की तुलना हिंदी ब्लॉगिंग से और अनलिमिटेड की तुलना अंग्रेजी के ब्लॉगिंग से की गई है।

हिंदी ब्लॉगिंग [Hindi Blogging]:-

Hindi Blogging

तो आईए सबसे पहले हिंदी ब्लॉगिंग के बारे में जान लेते है, हिंदी में ब्लॉगिंग करना कोई बुरी या शर्म की बात नहीं है, हिंदी तो अपनी राष्ट्रभाषा है। लेकिन हिंदी ब्लॉगिंग की एक वीक प्वाइंट है उसमें आप सिर्फ और सिर्फ इंडिया तक की सिमट कर रह जाओगे क्यों की जो हिंदी भाषा है, वह सिर्फ इंडिया में बोली और सुनी जाती है, इसलिए जब आप हिंदी में ब्लॉग बनाकर आर्टिकल लिखोगे तो सिर्फ इंडिया वाले ही उस पढ़ेंगे और पसंद भी करेंगे वहीं दूसरी तरफ अगर कोई इंडिया के बाहर का विजिटर आपकी साइट पर गलती से एक बार Visit कर भी दिया तो वह हिंदी में Article को देखकर दुबारा आपकी साइट पर Visit नहीं करेगा।

और रही रेवेन्यू की बात तो इंडियन जाहिरात पर एक क्लिक पर काफी कम रेवेन्यू मिलता है। लेकिन जिस प्रकार से हिंदी में ब्लॉगर की संख्या भारत में तेजी से बढ़ रही है, उसे देखकर ऐसा लगता है की आने वाले भविष्य में हिंदी ब्लॉगरों [Hindi Blogger] का भविष्य [Future] उज्जवल होगा लेकिन कितना भी उज्जवल हो विजिटर तो आपको इंडिया से ही मिलेंगे।

यह भी पढ़े:- YouTube पर पैसा कमाने के लिए कुछ भी।

यह भी पढ़े:- WordPress.org & WordPress.com इन दोनों में क्या Difference है?

यह भी पढ़े:- वेब होस्टिंग क्या है? और यह कैसे काम करता है और यह Free है या Paid?

यह भी पढ़े:- WordPress Nulled Theme Vs Premium Theme in Hindi.

यह भी पढ़े:- वेबसाईट के लिए खरीदे गए ट्रैफिक का फ़ायदा और नुकसान |

अंग्रेजी ब्लॉगर [English Blogging]:-

English Blogging

अब हम थोड़ा बहुत अंग्रेजी ब्लॉगिंग के बारे में भी जान लेते है, तो यह जो अंग्रेजी भाषा है वह पूरे विश्व में बोली और सुनी जाती और हर एक मुल्क के लोग बोलते है और इसे समझते भी है| इसलिए जब आप अपना ब्लॉग अंग्रेजी [English] में बनाओगे तो उसे न सिर्फ इंडिया वाले बल्की पूरी विश्व वाले पढ़ेंगे और समझेंगे और उससे आपको यह लाभ मिलेगा की आपकी वेबसाईट पर जो ट्रैफिक है वह हिंदी ब्लॉग के मुकाबले अंग्रेजी ब्लॉग पर अधिक आयेगा और अगर आप ब्लॉगिंग करते हो तो आप यह तो जानते ही होंगे की इंडिया कें मुकाबले दूसरे देशों से आने वाले जाहीरात [Ads] पर जो रेवेन्यू मिलता है एक क्लिक का वह इंडिया की मुकाबले काफी ज्यादा होता है।

यही सब वजह होती है, की लोग हिंदी के मुकाबले अंग्रेजी में ब्लॉगिंग करना अधिक पसंद करते है। और अंग्रेजी [English Blog] का ब्लॉग हिंदी से आगे निकल जाता है। लेकिन एक बात यह भी है की इंडिया में आज भी बहुत से लोगो को अच्छे से अंग्रेजी नहीं आती है, इसलिए अगर वो ब्लॉगिंग करना चाहते भी है तो हिंदी में ब्लॉगिंग करना उनकी मजबूरी बन जाता है, और वह लाख चाहकर भी अंग्रेजी में ब्लॉगिंग नहीं कर पाते है।

शायद हिंदी ब्लॉगरों की बढ़ती संख्या को देखकर इंडिया में भी वेबसाइट [Blogging Hindi Website] पर आनें वाली जाहिरत [Ads] का जो रेवेन्यू है, वह भी भविष्य में अधिक जनरेट होने लगे। इसलिए कुछ कहा नहीं जा सकता भविष्य के बारे में की कब क्या काया पलट हो जाय। फिलहाल अगर आज देखा जाय तो अंग्रेजी ब्लॉगरों का बोल बाला हिंदी ब्लॉगरों से ज्यादा है।

अगर आपको यह आर्टीकल पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले क्यों की आप Knowledge जितना शेयर करोगे उतना  बढेगा|

Subscribe My Youtube Channel

Follow Me On Twitter

Follow Me On Linkedin

Join me on Google Plus

Like My Facebook Page

About canihelpyouonline 206 Articles
www.canihelpyouonline.com Through this website we will give you information on Income Tax,Youtube,Mobile,Software,Computer,Tax Deduction at Source and Aliate Marketing and all new technology in Hindi.

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*